क्या वर्ण तथा हिंदी वर्णमाला (Varn tatha hindi varnamala) अलग-अलग होते हैं? 2024-25

वर्ण (Varn) तथा हिंदी वर्णमाला (hindi varnamala) दोनों में अंतर होता हैं| वर्ण की इकाई ध्वनि हैं, तथा वर्णमाला की इकाई वर्ण हैं| दोनों एक दूसरे से सम्बंधित होते हैं, क्युकि वर्णमाला वर्णो के समूह को कहा जाता हैं| बिना वर्ण के वर्णमाला का निर्माण संभव ही नहीं हैं|

hindi-varnamala
hindi varnamala

वर्ण तथा हिंदी वर्णमाला (Varn tatha hindi varnamala)

वर्ण ध्वनि की इकाई हैं, तथा वर्णमाला वर्णो के समूह को कहा जाता हैं| दोनों ही एक दूसरे से सम्बंधित होते हैं| वर्ण के बिना वर्णमाला का निर्माण नहीं हो सकता क्युकि वर्णमाला की इकाई वर्ण हैं| निचे इसका आसान शब्दो में विस्तारपूर्वक विवरण दिया गया हैं|

वर्ण

वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते हैं, जिसके टुकड़े नहीं किये जा सकते हैं| दूसरे शब्दो में वर्ण भाषा की सबसे छोटी इकाई हैं| जैसे अ, ई, व, च, आदि|

हिंदी वर्णमाला (hindi varnamala)

वर्णो के समूह को वर्णमाला कहते हैं| अर्थात वर्णमाला किसी भाषा के समस्त वर्णो के समूह को दर्शाता हैं|

हिंदी वर्णमाला के भाग

वर्णमाला को दो भागो में विभाजित किया गया हैं-

  • स्वर
  • व्यंजन

स्वर

वे वर्ण जिनके उच्चारण में किसी अन्य वर्ण के सहायता की आव्यशकता नहीं होती हैं, उसे स्वर कहा जाता हैं| इसके उच्चारण में केवल कंठ तथा तालु का प्रयोग होता हैं, जीभ और होठ का प्रयोग नहीं होता हैं| जैसे: अ, आ, उ, ए, ऊ इत्यादि|

स्वर के भेद

स्वर तीन प्रकार के होते हैं-

  • ह्रस्व स्वर: ह्रस्व स्वर का अर्थ हैं, जिसके उच्चारण में काफी काम समय लगे| जैसे: अ, ऊ, उ, ए इत्यादि|
  • दीर्घ स्वर: जिस वर्ण के उच्चारण में ह्रस्व स्वर का दोगुना समय लगे, उसे दीर्घ स्वर कहा जाता हैं| जैसे ऐ आ ई औ ऊ ऋ इत्यादि|
  • प्लुत स्वर: जिसके उच्चारण में काफी अधिक समय लगता हैं, उसे प्लुत स्वर कहते हैं| जैसे हे राम, या अल्लाह आदि|

व्यंजन

जिन वर्णो को बोलने के लिए स्वर की मदद लेनी पड़ती हैं, उसे व्यंजन कहते हैं| हर व्यंजन के उच्चारण में अ स्वर लगा होता हैं| अ के बिना व्यंजन का उच्चारण नहीं हो सकता हैं| जैसे- क, ख, ग, च, छ, द, म आदि|

व्यंजनो के भेद

व्यंजन तीन प्रकार के होते हैं-

स्पर्श व्यंजन: जिन व्यंजनो का उच्चारण करते समय जीभ मुँह के किसी भी भाग, जैसे- कंठ, तालु, मूर्धा, दांत, या फिर होठ का स्पर्श करती हैं, उसे स्पर्श व्यंजन कहते हैं| यह व्यंजन उच्चारण स्थान की अलग अलग एकता लिए हुए वर्गो में बाटे गए हैं|

ये कुल 25 व्यंजन होते हैं-

  • क वर्ग – यह वर्ग कंठ का स्पर्श करता हैं|
  • च वर्ग – यह वर्ग तालु को स्पर्श करता हैं|
  • ट वर्ग – यह वर्ग मूर्धा का स्पर्श करता हैं|
  • त वर्ग – यह वर्ग दातो को स्पर्श करता हैं|
  • प वर्ग – यह वर्ग होठो का स्पर्श करता हैं|

अन्तस्थ व्यंजन: उच्चारण के समय जो व्यंजन मुख के अंदर ही रहे, उसे अन्तस्थ व्यंजन कहते हैं| इन व्यंजनों का उच्चारण स्वर तथा व्यंजन के मध्य होता हैं| जब भी इनका उच्चारण किया जाता हैं, तब जीभ मुख के किसी भी भाग को स्पर्श नहीं करती| ये व्यंजन चार होते हैं- य , र, ल, व| इनका उच्चारण जीभ, तालु, दांत, और होठ के परस्पर सटने से होता हैं| लेकिन यह पूर्ण रूप से मुख के किसी भी भाग को स्पर्श नहीं करती|

उष्म व्यंजन: जिन वर्णो के उच्चारण के समय हवा मुख के विभ्भिन भागो से टकराय और साँस में गर्मी पैदा कर दे, उन्हें उष्म व्यंजन कहते हैं| इन व्यंजनों का उच्चारण करते समय वायु मुँह से निकलते हुए गर्म हवा निकलती हैं| ये चार व्यंजन होते हैं- श, ष, स, और ह |

Social Media Link
Facebookhttps://www.facebook.com/profile.php?id=61557041321095
Telegramhttps://web.telegram.org/a/#-1002059917209

FAQs

हिंदी वर्णमाला में कितने स्वर है?

हिंदी वर्णमाला में 11 स्वर है|

हिंदी वर्णमाला में कितने व्यंजन होते हैं?

हिंदी वर्णमाला में 39 व्यंजन होते हैं|

हिंदी वर्णमाला में कितने वर्ण होते हैं|

हिंदी वर्णमाला में उच्चारण के आधार पर 52 और लेखन के आधार पर 56 वर्ण होते हैं|