Vachan in hindi: वचन किसे कहते हैं? सम्पूर्ण जानकारी एवं इसके भेद उदहारण सहित 2024-25

संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, और क्रिया के जिस रूप से संख्या का बोध हो, उसे वचन (Vachan) कहते हैं| वचन का शाब्दिक अर्थ हैं- संख्यावाचन| संख्यावाचन को ही संछिप्त में वचन कहते हैं|

Vachan
Vachan

वचन (Vachan) की परिभाषा

शब्द के जिस रूप से एक या एक से अधिक का बोध होता हैं, उसे हिंदी व्याकरण में वचन (Vachan) कहते हैं| दूसरे शब्दों में ‘वचन’ संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, और क्रिया की संख्या का बोध कराता हैं| जैसे-

  • गोदाम में सब्जियां रखी हैं|
  • माली पौधे सींच रहा हैं|

इन वाक्यों में गोदाम तथा माली शब्द एक होने का और सब्जियां तथा पौधे अधिक होने का ज्ञान करा रहे हैं| इसलिए गोदाम तथा माली एक संख्या को दर्शाते हैं, तथा सब्जिया और पौधे अधिक संख्या को दर्शाते हैं|

वचन (Vachan) के भेद

वचन (Vachan) संख्या का बोध कराता हैं| इसलिए संख्या के आधार पर वचन (Vachan) के दो भेद होते हैं| पहला वह जिसमे एक व्यक्ति या वस्तु होने का बोध हो और दूसरा वह जिसमे एक से अधिक व्यक्ति या वस्तु होने का बोध हो| निचे इसकी पूरी जानकारी दी गई हैं-

एकवचन

शब्दों के जिस रूप से एक व्यक्ति या वस्तु का बोध होता हैं, उसे एकवचन कहते हैं| जैसे- लड़का, गाय, माता, बन्दर, बकरी, संतरा, तोता इत्यादि| उदाहरण

  • एक लड़का बाजार जा रहा हैं|
  • गाय चार रही हैं|
  • राधा की माता स्कूल में टीचर हैं|
  • बन्दर छत पर हैं|
  • बकरी रस्ते में चल रही हैं|
  • यह संतरा अच्छा नहीं हैं|
  • मेरे पास एक तोता हैं|

बहुवचन

शब्दों के जिस रूप से एक से अधिक व्यक्ति या वस्तु होने का बोध हो, उसे बहुवचन कहते हैं| जैसे- लड़के, गाये, मताये, रोटियां, घरो, गाड़िया, पुस्तके इत्यादि| उदाहरण

  • कुछ लड़के बाजार जा रहे हैं|
  • गाये चार रही हैं|
  • पूजा के लिए कुछ मताये मंदिर जा रही हैं|
  • कुछ रोटियां उसे दे दो|
  • कुछ घरो में साफ़ पानी नहीं आ रहा हैं|
  • मोहन के पास बहुत साड़ी गाड़िया हैं|
  • कुछ पुस्तके उससे ले लो|

वचन (Vachan) को कैसे पहचाने?

वचन (Vachan) की पहचान संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, अथवा क्रिया के द्वारा होती हैं| हमने पहले जाना था कि, ये दो प्रकार की होती हैं- एकवचन और बहुवचन | एकवचन का अर्थ हैं- किसी एक वस्तु या व्यक्ति का बोध कराना लेकिन बहुवचन का अर्थ हैं- एक से अधिक वस्तु या व्यक्ति का बोध कराना| इसके कुछ अपवाद भी हैं| जहाँ पर यह पूर्ण रूप से लागू नहीं होते हैं| इसका मतलब यह अपने भाव, आदर इत्यादि को प्रकट करने के लिए एकवचन के स्थान पर बहुवचन का तथा बहुवचन के स्थान पर एकवचन का उपयोग किया जाता हैं| निचे उदाहरण के साथ इसकी जानकारी दी गई हैं-

आदर प्रकट करने के लिए|

आदर प्रकट करने के लिए एकवचन के स्थान पर बहुवचन का प्रयोग किया जाता हैं| जैसे-

  • माता जी, आप कब आयी|
  • मेरे पिताजी कोलकाता गए हैं|
  • टीचर पढ़ा रहे हैं|
  • नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री हैं|

कुछ ऐसे शब्द जो हमेशा एकवचन में रहते हैं|

हिंदी के कुछ ऐसे शब्द भी हैं, जो हमेशा एकवचन में रहते हैं| जैसे-

  • पानी मत गिराओ, वरना सारा पानी ख़तम हो जायगा|
  • उसे बहुत क्रोध आ रहा हैं|
  • नेता को सदैव अपनी जनता का ख्याल रखना चाहिए|

कुछ संज्ञाएँ जो हमेशा एकवचन में प्रयुक्त होता हैं|

द्रव्यवाचक, भाववाचक, तथा व्यक्तिवाचक संज्ञाय हमेशा एकवचन में प्रयुक्त होता हैं| जैसे-

  • चावल बहुत महंगा हो गया हैं|
  • अच्छाई का सदा जित होता हैं|
  • कर्म ही पूजा हैं|
  • आरती बुद्धिमान हैं|

कुछ ऐसे शब्द जो हमेशा बहुवचन में रहते हैं|

हिंदी के कुछ ऐसे शब्द भी हैं, जो हमेशा बहुवचन में रहते हैं| जैसे-

  • आजकल रेशमा के बाल बहुत झड़ रहे हैं|
  • किट्टू जब से अफसर बना हैं, तब से उसके दर्शन ही दुर्लभ हो गए हैं|
  • आजकल हर एक वस्तु के दाम बढ़ गए हैं|

वचन (Vachan) बनाने के नियम

वचन बनाने के कुछ नियम होते हैं| एकवचन से बहुवचन बनाना और बहुवचन से एक वचन बनाना ज्यादा सरल भी नहीं हैं, और ज्यादा कठिन भी नहीं हैं|

एकवचन से बहुवचन बनाने के नियम

एकवचन से बहुवचन बनाने के कुछ नियम निचे दिए ज रहे हैं, जिससे स्टूडेंट्स को समझने में और आसानी हो|

आकारांत पुल्लिंग शब्दों में ‘आ’ के स्थान पर ‘ए’ लगाने पर

  • कपडा – कपडे
  • लड़का- लड़के
  • पत्ता- पत्ते
  • बेटा- बेटे
  • कुत्ता- कुत्ते

आकारांत स्त्रीलिंग शब्दों में ‘अ’ के स्थान पर ‘ऐं’ लगाने पर

  • बात- बाते
  • रात- राते
  • चादर- चादरे
  • बहन- बहने
  • सड़क- सड़के

आकारांत स्त्रीलिंग एकवचन संज्ञा शब्दों के अंत में ‘एँ’ लगाने पर

  • कन्या- कन्याएँ
  • कामना- कामनाएँ
  • वस्तु- वस्तुएँ

जब शब्दों का दो बार प्रयोग किया जाता हैं|

  • भाई- भाई- भाई
  • गांव- गांव- गांव
  • घर- घर- घर

बहुवचन से एकवचन बनाने के नियम

बहुवचन से एकवचन बनाने के कुछ नियम निचे दिए ज रहे हैं, जिससे स्टूडेंट्स को समझने में और आसानी हो|

जिन संज्ञाओ के अंत में ‘या’ के ऊपर चंद्र बिंदु होता हैं, उसमे सिर्फ ‘या’ लगाने पर

  • बिन्दियाँ- बिंदिया
  • गुड़ियाँ- गुड़िया
  • चिड़ियाँ- चिड़िया
  • डिबियाँ- डिबिया

इकारांत स्त्रीलिंग शब्दों में ‘याँ’ हटाने पर

  • नदियाँ- नदी
  • लड़कियाँ- लड़की
  • रीतियाँ- रीति

कुछ शब्दों में गुण, वर्ण, भाव आदि शब्द हटाने पर

  • मित्रवर्ग- मित्र
  • व्यापारीगण- व्यापारी
  • सुधिजन- सुधि

आकारांत पुल्लिंग शब्दों में ‘ए’ के स्थान पर ‘आ’ लगाने पर

  • तारे- तारा
  • मुर्गे- मुर्गा
  • जूते- जूता
  • कपडे- कपडा

वचन (Vachan) परिवर्तन

एकवचन का बहुवचन में परिवर्तन तथा बहुवचन का एकवचन में परिवर्तन के कुछ उदाहरण निचे चार्ट में दिए गए हैं-

एकवचनबहुवचन
पुस्तकपुस्तके
आँखआँखे
अलमारीअलमारियाँ
रातराते
कलमकलमे
गायगाये
वधू वधुएँ
कविकविगण
दवाईदवाइयाँ
साधुसाधुओ
घरघरो
रुपयारूपये
लड़कालड़के
स्त्रीस्त्रियाँ
नदीनदियाँ
शाखाशाखाएँ
गतिगतियाँ
घोडाघोड़े
बच्चाबच्चे
गलीगलियो
वचन परिवर्तन

FAQs

वचन के उदाहरण दो?

वचन के कुछ उदाहरण-
मैदान में ‘गाये’ चार रही हैं|
‘लड़की;’ खेलती हैं|
ट्रक में ‘सब्जियाँ’ रखी हैं|

वचन कितने प्रकार के होते हैं?

वचन दो प्रकार की होती हैं- एकवचन और बहुवचन|

एक वचन किसे कहते हैं?

संज्ञा के जिस रूप से किसी व्यक्ति, वस्तु के एक या एक से अधिक होने का पता चले उसे वचन कहते हैं|

यह भी जाने
संज्ञा क्या है-परिभाषा एवं भेद उदाहरण सहित: 2024-25
क्या वर्ण तथा हिंदी वर्णमाला अलग-अलग होते हैं?
सर्वनाम किसे कहते हैं? इसके भेद एवं सम्पूर्ण जानकारी उदाहरण सहित
विशेषण की परिभाषा एवं इसके भेद उदाहरण सहित 2024-2025
जाने अव्यय का सही मायने में अर्थ, परिभाषा और भेद उदाहरण सहित
लिंग का सही मायने में अर्थ एवं इसके प्रकार उदहारण सहित

Social Media Link
Facebookhttps://www.facebook.com/profile.php?id=61557041321095
Telegramhttps://web.telegram.org/a/#-1002059917209
Social Media Link

Leave a Comment